Ranjish Hi Sahi Lyrics |रंजिश ही सही 2021 Free

Ranjish Hi Sahi Lyrics गाने को श्री अहमद फ़राज़ ने लिखा है और श्री मेहदी हसन ने गाया है । रंजिश ही सही को ताल श्री दादरा ने दी है।

Ranjish Hi Sahi Lyrics

Ranjish Hi Sahi Lyrics Song Detail’s

Lyrics By: अहमद फ़राज़
Performed By: मेहदी हसन
Taal: दादरा

Ranjish Hi Sahi Lyrics in Hindi

रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए आ
आ फिर से मुझे छोड़ के जाने के लिये आ

अब तक दिल-ए-खुशफ़हम को हैं तुझ से उम्मीदें
ये आखिरी शम्में भी बुझाने के लिये आ
रंजिश ही सही…

इक उम्र से हूँ लज्ज़त-ए-गिरया से भी महरूम
ऐ राहत-ए-जां मुझको रुलाने के लिये आ
रंजिश ही सही…

कुछ तो मेरे पिन्दार-ए-मोहब्बत का भरम रख
तू भी तो कभी मुझ को मनाने के लिये आ
रंजिश ही सही…

माना के मोहब्बत का छुपाना है मोहब्बत
चुपके से किसी रोज़ जताने के लिए आ
रंजिश ही सही…

जैसे तुम्हें आते हैं ना आने के बहाने
ऐसे ही किसी रोज़ न जाने के लिए आ
रंजिश ही सही…

पहले से मरासिम ना सही फिर भी कभी तो
रस्म-ओ-रहे दुनिया ही निभाने के लिये आ
रंजिश ही सही…

किस किस को बताएँगे जुदाई का सबब हम
तू मुझ से खफा है तो ज़माने के लिये आ
रंजिश ही सही…

Ranjish Hi Sahi Lyrics in English

Rnjish hi sahi dil hi dukhaane ke lie a
A fir se mujhe chhod ke jaane ke lie a

Kis kis ko bataaenge judaai ka sabab ham
Tu mujhase khafa hai to zamaane ke lie a

Ab tak dil-e-khushafaham ko hai tujh se ummiden
Ye akhiri shammen bhi bujhaane ke lie a

Ek umr se hun lajjat-e-girya se bhi maharum
Ai raahat-e-jaan mujhako rulaane ke lie a

Kuchh to mere pindaar-e-mohabbat ka bharam rakh
Tu bhi to kabhi mujhako manaane ke lie a

Maana ke mohabbat ka chhupaana hai mohabbat
Chupake se kisi roz jataane ke lie a

Jaise tumhen ate hain n ane ke bahaane
Aise hi kisi roz n jaane ke lie a

Pahale se maraasim na sahi fir bhi kabhi to
Rasm-o-rahe duniya hi nibhaane ke lie a

More Related Lyrics

Meri Bheegi Bheegi Si Lyrics 2021 Free Reading

Kya Hua Tera Wada Lyrics 2021 Free

Ye Raatein Ye Mausam Lyrics 2021 Free Reading

Ranjish Hi Sahi Lyrics Video

 

Leave a Comment